Thursday, April 25, 2024
HomePERSONALITYSabrina Siddiqui का इंडिया-पाकिस्तान से है ख़ास कनेक्शन

Sabrina Siddiqui का इंडिया-पाकिस्तान से है ख़ास कनेक्शन

Sabrina Siddiqui: इंडिया, यूएस और पाकिस्तान से गहरा रिश्ता रखने वाली जानीमानी जर्नलिस्ट सबरीना सिद्दीकी मॉइनॉरिटीज के मुद्दे पर आक्रामक रहती हैं। कई सालों से अमेरिका में पत्रकारिता करने वाली सबरीना आए दिन सोशल मीडिया पर ट्रोल होती हैं और ट्रोलर की ऑनलाइन प्रताड़ना झेलती हैं। अभी भारतीय पीएम मोदी ने अमेरिका का दौरा किया तो सबरीना ने अल्पसंख्यकों के मुद्दे पर सवाल ठोंक दिया। अब वो झेल रही हैं।

सबरीना सिद्दीकी, पत्रकार, वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ)

Sabrina Siddiqui_PM MODI
  • मॉइनॉरिटीज के मुद्दे पर आक्रामक रहती हैं सबरीना सिद्दीकी
  • सबरीना ने यूएस दौरे पर पूछा था पीएम नरेंद्र मोदी से सवाल
  • पीएम मोदी से अल्पसंख्यकों से भेदभाव को लेकर किया था सवाल
  • सोशल मीडिया पर ट्रोल, बहुत सहा ऑनलाइन प्रताड़ना
  • पत्रकार सबरीना के अब्बा इंडियन और मम्मी पाकिस्तानी मूल की
  • पति और बेटी के साथ यूएस में रहती हैं जर्नलिस्ट सबरीना सिद्दीकी
  • मुस्लिम और ईसाई दोनों रीति-रिवाज़ से सबरीना ने की थी शादी  

Sabrina Siddiqui: अमेरिका दौरे पर गए पीएम नरेंद्र मोदी ने व्हॉइट हाउस में राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ साझा प्रेस वार्ता की थी। इस दौरान वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ) अखबार की व्हॉइट हाउस जर्नलिस्ट सबरीना सिद्दीकी ने पीएम नरेंद्र मोदी से भारत में अल्पसंख्यकों से भेदभाव को लेकर सवाल किया था। इसी के बाद से ही वो सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रही हैं। उनको प्रताड़ित किया जा रहा है। मीडिया पर उन्हें लगातार ट्रोल किया जा रहा है। प्रताड़ित किया जा रहा।

वॉल स्ट्रीट जर्नल अखबार की व्हॉइट हाउस जर्नलिस्ट सबरीना सिद्दीकी ने इसकी शिकायत अखबार ने व्हॉइट हाउस से की। अखबार ने बताया कि हमारी पत्रकार ने जब से भारत के प्रधानमंत्री मोदी से सवाल पूछा है, तब से भारत के लोग उनका ऑनलाइन उत्पीड़न कर रहे हैं। इसमें मोदी सरकार के कुछ नेता भी शामिल हैं।

Sabrina Siddiqui: अखबार में लिखा कि सबरीना को मुस्लिम होने के कारण टारगेट किया जा रहा है। वहीं व्हॉइट हाउस ने जवाब कहा कि हमें उत्पीड़न की घटना की जानकारी है। ऐसी घटना अस्वीकार्य है। हम पत्रकार के उत्पीड़न की घटना की निंदा करते हैं। दरअसल सबरीना ने पीएम मोदी से भारत में अल्पसंख्यकों के साथ कथित भेदभाव को लेकर सवाल पूछा था। हालांकि उसी दिन से वह सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गई थीं।

सबरीना सिद्दीकी ने पीएम नरेंद्र मोदी से पूछा था कि भारत खुद को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र मानाता है, लेकिन ऐसे कई मानवाधिकार संगठन कहते हैं कि आपकी सरकार ने धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ भेदभाव किया है, अपने आलोचकों को चुप कराने की कोशिश की है, आपकी सरकार मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों के अधिकारों में सुधार लाने और स्वतंत्र अभिव्यक्ति को बनाए रखने के लिए क्या कदम उठा रही है?

पीएम मोदी ने कहा था कि भेदभाव के लिए कोई जगह नहीं है। लोकतंत्र हमारी आत्मा है, लोकतंत्र हमारी रगों में दौड़ता है।  हम लोकतंत्र में रहते हैं,  हमारी सरकार ने लोकतंत्र के बुनियादी सिद्धांतों को अपनाया है। हमने हमेशा साबित किया है कि लोकतंत्र नतीजे दे सकता है। जब मैं नतीजे देने की बात करता हूं तो यह जाति, पंथ, धर्म, लिंग की परवाह किए बिना होता है।

Sabrina Siddiqui: सबरीना का जन्म 8 दिसंबर 1986 को यूएसए की राजधानी वॉशिंगटन में हुआ था। सबरीना सिद्दीकी अपने पति अली और बेटी के साथ रहती हैं। सबरीना और अली की शादी मुस्लिम और ईसाई रीति-रिवाज से हुई थी।

सबरीना ने अमेरिका के शिकागो की नॉर्थ वेस्टर्न यूनिवर्सिटी के मेडिकल स्कूल ऑफ जर्नलिज्म से ग्रेजुएशन किया था। उन्होंने 24 साल की उम्र में ब्लूमबर्ग न्यूज से फ्रीलांस काम शुरू किया था। इसके बाद उन्होंने गार्जियन के लिए भी काम किया। वह सीएनएन के लिए पॉलिटिकल एनालिस्ट भी रह चुकी हैं। उन्होंने हफिंगस्टन पोस्ट के लिए भी काम किया है।

उनके पिता जमीर भारत-पाक मूल के अमेरिकी नागरिक हैं। उनका जन्म भारत में हुआ था, लेकिन परवरिश पाकिस्तान में हुई थी। सबरीना की मां निशात सिद्दीकी पाकिस्तानी मूल की हैं। वह अमेरिका की मशहूर शेफ हैं। 

पाकिस्तानी माता-पिता की संतान सिद्दीकी का अपनी सांस्कृतिक विरासत से गहरा संबंध है। उनके पिता का जन्म भारत में हुआ था, लेकिन उनकी परवरिश पाकिस्तान में हुई, जबकि उनकी मां पाकिस्तानी हैं। सबरीना की जड़े भले ही पाकिस्तान से हों, सिद्दीकी का जन्म अमेरिका में ही हुआ है।

सबरीना ने नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी से पढ़ाई पूरी की है। फिलहाल वो अपने पति के साथ वाशिंगटन में रह रही हैं। सबरीना सिद्दीकी की शादी चार साल पहले मुहम्मद अली सैयद जाफरी से हुई थी। दोनों की एक बेटी भी है जिसका नाम सोफी है।

Sabrina Siddiqui: सबरीना सर सैयद अहमद ख़ान के परिवार से हैं। सबरीना लंबे समय से व्हॉइट हाउस रिपोर्टर हैं और वह बाइडन प्रशासन को कवर करती हैं। सबरीना उन पत्रकारों में शामिल हैं,  जो इस साल राष्ट्रपति बाइडन की ऐतिहासिक यूक्रेन यात्रा में साथ थीं।

2019 में वॉल स्ट्रीट जनरल में नौकरी शुरू करने से पहले वो द गार्डियन के लिए राष्ट्रपति चुनाव और व्हाइट हाउस कवर कर चुकी हैं।

सबरीना सिद्दीकी वॉशिंगटन डीसी में द वॉल स्ट्रीट जर्नल के लिए व्हॉइट हाउस की रिपोर्टिंग करती हैं। प्रेसीडेंट जो बिडेन के मंत्रालय का ज़िम्मा उनके पास है। साल 2019 में WSJ में शामिल होने से पहले सबरीना गार्जियन अखबार के लिए व्हॉइट हाउस और 2016 के राष्ट्रपति चुनाव को कवर किया था। नॉर्थ वेस्टर्न यूनिवर्सिटी से स्नातक, सिद्दीकी अपने पति और बेटी के साथ वॉशिंगटन में ही रहती हैं।

सबरीना सिद्दीक़ी ने नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है और अपने पति, बच्ची के साथ वॉशिंगटन में रहती हैं।

पिछले हफ़्ते जब मोदी व्हाइट हाउस स्टेट विजिट पर पहुँचे थे तब संयुक्त प्रेस कॉन्फ़्रेंस में सबरीना सिद्दीक़ी ने मानवाधिकार और अल्पसंख्यकों से जुड़े मुद्दे पर पीएम मोदी से सवाल पूछा था।

पीएम मोदी ने जवाब दिया था, ”मैं सवाल से हैरान हूँ। लोकतंत्र हमारे डीएनए में है। भारत में किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं है।”

मोदी सरकार पर पहले भी हिंदू राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने, मानवाधिकारों के हनन और अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव करने के आरोप लगते रहे हैं। इनमें मुस्लिमों के साथ हिंसा की घटनाएं, मुस्लिम पत्रकारों और स्टूडेंट्स की गिरफ़्तारी जैसी घटनाएं भी शामिल हैं।

Sabrina Siddiqui: पीएम मोदी ने अपने जवाब में कहा था, “लोकतंत्र हमारी रगों में है। लोकतंत्र को हम जीते हैं। और हमारे पूर्वजों ने उसे शब्दों में ढाला है, संविधान के रूप में। हमारी सरकार लोकतंत्र के मूलभूत मूल्यों को आधार बनाकर बने हुए संविधान के आधार पर चलती है। भारत में सरकार की ओर से मिलने वाले लाभ सभी को उपलब्ध हैं, जो भी उनके हक़दार हैं, वो उन सभी को मिलते हैं। इसलिए भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों में कोई भेदभाव नहीं है। न धर्म के आधार पर, न जाति के आधार पर, न उम्र के आधार पर, और न भूभाग के आधार पर।”

जब सबरीना सिद्दीक़ी ने पीएम मोदी से सवाल पूछा तो कुछ देर बाद ही सोशल मीडिया पर उनकी ट्रोलिंग शुरू हो गई। बीजेपी समर्थक सोशल मीडिया हैंडल्स से सबरीना सिद्दीक़ी को एंटी इंडिया, पाकिस्तानी कहा जाने लगा। सबरीना सिद्दीक़ी की मुस्लिम पहचान पर भी जमकर निशाना साधा गया।

सबरीना ने पाकिस्तान के झंडे की जो तस्वीरें पोस्ट की थीं, उन पोस्ट के स्क्रीनशॉट भी ट्रोलर्स ने शेयर किए और सबरीना को घेरने की कोशिश की।

ट्रोलिंग बढ़ी तो सबरीना सिद्दीक़ी ने ट्विटर पर अपने पिता के साथ की साल 2011 की तस्वीर पोस्ट की। इस तस्वीर में इंडिया के मैच के दौरान सिद्दीक़ी इंडिया की जर्सी पहने अपने पिता के साथ दिख रही हैं।

वहीं सबरीना के इस ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए कांग्रेस के कई नेताओं ने मोदी सरकार को घेरा था। सबरीना की ऑनलाइन ट्रोलिंग की इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ने भी आलोचना की है।

Sabrina Siddiqui: इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ने ट्वीट किया, ”ज़िम्मेदार नेताओं से सवाल पूछने के मामले में पत्रकार अहम भूमिका अदा करते हैं और अपना काम करने की वजह से ऐसे पत्रकारों की कभी भी ट्रोलिंग नहीं होनी चाहिए। हम सबरीना और ऐसी धमकियों का सामना कर रहे हर पत्रकार के साथ खड़े हैं।”

Read More…

नायाब मिड्ढा

शिवरंजनी

क्षमा बिंदु

विदुषी कौशिक

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments