Wednesday, May 22, 2024
HomeINDIASHRUTI SMRITI SMARAN: इंतज़ार ख़त्म, 'श्रुति-स्मृति-स्मरण' पुस्तक में मिलेंगे आचार्य महावीर प्रसाद...

SHRUTI SMRITI SMARAN: इंतज़ार ख़त्म, ‘श्रुति-स्मृति-स्मरण’ पुस्तक में मिलेंगे आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी से जुड़े अनोखे तथ्य

SHRUTI SMRITI SMARAN: इंतज़ार ख़त्म हुआ। अब ‘श्रुति-स्मृति-स्मरण’ पुस्तक ज़ल्द ही मार्केट में होगी। इसमें आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के जीवन से जुड़े अनोखे तथ्य मिलेंगे।

SHRUTI SMRITI SMARAN BOOK ON ACHARYA MAHAVIR PRASAD DWIVEDI PUBLISHED SOON

SHRUTI SMRITI SMARAN: बता दें कि आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के रजत जयंती वर्ष पर आयोजित स्मृति समारोह की श्रृंखला में नवंबर 2022 में आयोजित द्विवेदी मेला से निकले स्वर को ‘श्रुति-स्मृति-स्मरण’ (SHRUTI SMRITI SMARAN) पुस्तक में लिपबद्ध किया गया है।

SHRUTI SMRITI SMARAN: इस बारे में आयोजन समिति से जुड़े साहित्यकार गौरव अवस्थी ने बताया कि आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के रजत जयंती वर्ष पर आयोजित स्मृति समारोह की श्रृंखला में 11-12 नवंबर 2022 को “द्विवेदी मेला” आयोजित किया गया था। इस समारोह में में देशभर के 75 से ज़्यादा साहित्यकार, पत्रकार, प्रोफ़ेसर और विद्वान पधारे थे। इनमें से अधिकतर ने द्विवेदी मेला से जुड़े अपने अनुभव लिपिबद्ध किया था। अव वही पुस्तक ‘श्रुति-स्मृति-स्मरण’ (SHRUTI SMRITI SMARAN) के रूप में सामने आ रहा है।

अवस्थी ने बताया कि आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी से जुड़े संस्मरणों पर आधारित पुस्तक – ‘श्रुति-स्मृति-स्मरण’ शीघ्र ही प्रकाशित होने वाली है। उन्होंने बताया कि इसका आकर्षक कवर पेज नई दिल्ली के डिजाइनर राजीव कुमार ने तैयार किया है।

गौर करें तो पुस्तक के प्रकाशन की ज़िम्मेदारी 123 साल पहले हिंदी में ‘सरस्वती’ मासिक पत्रिका का संकल्प पूरा करने वाले प्रबल हिंदी समर्थक बाबू चिंतामणि घोष द्वारा स्थापित इंडियन पर्स के वर्तमान स्वामी सुप्रतीक घोष ने अपने ऊपर लिया है। यह हिंदी भाषियों के लिए गर्व का विषय है।

गौरव अवस्थी ने बताया कि इस पुस्तक को प्रकाशित करने का एकमात्र उद्देश्य “द्विवेदी मेला” के आयोजनों के इतिहास से भावी पीढ़ी को परिचित कराए रखना भर है, ताकि भावी पीढ़ियां प्रेरणा ग्रहण करती रहें।

SHRUTI SMRITI SMARAN: साल 1964 में आचार्य द्विवेदी की जन्मशताब्दी पर यूपी के रायबरेली के दौलतपुर में संपन्न हुए द्विवेदी मेला का कोई इतिहास ज्ञात न होने पर ही आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति न्यास, रायबरेली ने इस पुस्तक को प्रकाशित करने का संकल्प लिया। अब यह संकल्प पूर होने वाला है। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी पर आधारित पुस्तक ‘श्रुति-स्मृति-स्मरण’ (SHRUTI SMRITI SMARAN) शीघ्र ही आपके हाथों में होगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments