Tuesday, June 25, 2024
HomeINDIALapta Pati: भिखारी जैसी हालत में मिला 10 साल से बिछड़ा पति

Lapta Pati: भिखारी जैसी हालत में मिला 10 साल से बिछड़ा पति

देखते ही पत्नी लिपट कर रोने लगी, फिर दुलारने-संवारने लगी

आज ये मुझे मिल गए, मेरी दुनिया फिर से मुझे मिल गई

21 साल पहले हुई थी शादी, 10 साल पहले लापता हो गया था पति

Courtesy aajtak.com

Lapta Pati: यूपी के बलिया में एक महिला को सड़क किनारे अचानक उसका 10 साल से लापता पति मिल गया। पति को भिखारी जैसी हालत में देखकर वह उससे लिपट कर रोने लगी। इसके बाद वह पति के पास जाकर बैठ गई। उसके बाल और चेहरे को साफ करने लगी।

इस दौरान महिला बार-बार पति से पूछती रही-आप ठीक तो है न। फिर महिला ने पति को अपना ही दुपट्‌टा ओढ़ा दिया। इसके बाद उसने बेटे को फोन कर कहा, ”बाबू, पापा मिल गए हैं। घर से एक कुर्ता लेते आओ।” मामला शुक्रवार दोपहर का जिला अस्पताल के बाहर का है।

Lapta Pati: इस पूरी घटना का वीडियो भी सामने आया है। इसमें पत्नी अपने पति के साथ सड़क के किनारे बैठी है। वह अपने पति के चेहरे और बाल पर हाथ फेरती है। उसके बालों में फंसी गंदगी को साफ करती है। ऐसा करते हुए वह लगातार रोती भी जा रही है। महिला बार-बार अपने पति का चेहरा साफ करती। रोते हुए उसका हाल पूछती है।

Lapta Pati: महिला जानकी देवी बलिया के देवकली थाना सुखपुरा की रहने वाली हैं। उसके पति का नाम मोती चंद्र वर्मा हैं। दोनों की शादी 21 साल पहले हुई थी। महिला ने बताया, ”मैं शुक्रवार को दवा लेने जिला अस्पताल गई थी। तभी गेट के पास मेरी नजर अपने पति पर पड़ गई। पहले तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ। मगर, बाद में मैंने ई-रिक्शा को रुकवाया और उतर कर उनके पास चली गई।”

”मेरे मन से बार-बार यही आवाज आ रही थी कि ये मेरे पति ही हैं। उनका चेहरा बहुत गंदा था। जब मैंने चेहरे को हाथ से साफ किया, तो उन्हें पूरी तरह से पहचान गई। इसके बाद मैंने अपने बेटे को फोन पर पूरी बात बताई और जल्दी से पापा की एक फोटो लाने के लिए कहा। मेरा बेटा मौके पर आया और फोटो से उनका चेहरा मिलाया। तब पूरी तरह से साफ हो गया कि ये मेरे पति ही हैं।”

जानकी देवी अपने पति को घर ले गई। वह कहती है, आज का दिन मेरे लिए वरदान है। मैं बहुत खुश हूं। ”मैंने अपने पति को नेपाल तक ढूंढा था”

Lapta Pati: जानकी देवी ने कहा, “मेरे पति मानसिक रूप से बीमार हैं। 10 साल पहले वह घर से अचानक कहीं चले गए थे। तभी से मैं अपने पति को हर जगह तलाश कर रही थी। यह तलाश आज पूरी हो गई। मुझे मेरे भगवान मिल गए। मैंने अपने पति को नेपाल तक ढूंढा था। लेकिन, सब जगह से निराशा ही हाथ लगी थी।”

”आज का दिन मेरे लिए किसी वरदान से कम नहीं। अपने पति को ढूंढ़ने में मैंने अपना सब कुछ बेंच दिया था। इनको ढूंढ़ने में मैंने कोई कसर नहीं छोड़ी थी। हम लोग तो अब हार मान चुके थे, लेकिन आज ये एक चमत्कार की तरह मेरे सामने आ गए। आज ये मुझे मिल गए, मेरी दुनिया फिर से मुझे मिल गई।”

Lapta Pati: महिला ने कहा, ”आज का दिन मेरे लिए किसी वरदान से कम नहीं। अपने पति को ढूंढ़ने में मैंने अपना सब कुछ बेंच दिया था। इनको ढूंढ़ने में मैंने कोई कसर नहीं छोड़ी थी। हम लोग तो अब हार मान चुके थे, लेकिन आज ये एक चमत्कार की तरह मेरे सामने आ गए। आज ये मुझे मिल गए, मेरी दुनिया फिर से मुझे मिल गई।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments