Tuesday, June 25, 2024
HomeRELIGIONPitru Paksha 2023: पितरों की आत्मा की शांति के लिए होता है...

Pitru Paksha 2023: पितरों की आत्मा की शांति के लिए होता है पितृपक्ष, श्राद्ध आज से

पितृपक्ष 29 सितंबर से शुरू, समापन 14 अक्तूबर को

Pitru Paksha 2023: पितृपक्ष में पितरों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध किया जाता है। पितृपक्ष की शुरुआत भाद्रपद माह की पूर्णिमा तिथि से होती है और अश्विन माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि पर इसका समापन होता है। पितृपक्ष यानी श्राद्ध का हिंदू धर्म में विशेष महत्व होता है। पितृपक्ष के दौरान पूर्वजों को श्रद्धापूर्वक याद करके उनका श्राद्ध कर्म किया जाता है।

पितृपक्ष में पितरों को तर्पण देने और श्राद्ध कर्म करने से उनको मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दौरान न केवल पितरों की मुक्ति के लिए श्राद्ध किया जाता है, बल्कि उनके प्रति अपना सम्मान प्रकट करने के लिए भी किया जाता है। पितृपक्ष में श्रद्धा पूर्वक अपने पूर्वजों को जल देने का विधान है। 

पितृपक्ष 2023?

पितृपक्ष की शुरुआत इस साल आज यानी 29 सितंबर 2023 से हो गई है। इसका समापन 14 अक्तूबर को होगा।

दिनांक दिन तिथि/श्राद्ध

29 सितंबर शुक्रवार पूर्णिमा श्राद्ध

29 सितंबर शुक्रवार प्रतिपदा श्राद्ध

30 सितंबर शनिवार द्वितीया श्राद्ध

01 अक्तूबर रविवार तृतीया श्राद्ध

02 अक्तूबर सोमवार चतुर्थी श्राद्ध

03 अक्तूबर मंगलवार पंचमी श्राद्ध

04 अक्तूबर बुधवार षष्ठी श्राद्ध

05 अक्तूबर गुरुवार सप्तमी श्राद्ध

06 अक्तूबर शुक्रवार अष्टमी श्राद्ध

07 अक्तूबर शनिवार नवमी श्राद्ध

08 अक्तूबर रविवार दशमी श्राद्ध

09 अक्तूबर सोमवार एकादशी श्राद्ध

11 अक्तूबर बुधवार द्वादशी श्राद्ध

12 अक्तूबर 2023 गुरुवार त्रयोदशी श्राद्ध

13 अक्तूबर 2023 शुक्रवार चतुर्दशी श्राद्ध

14 अक्तूबर 2023 शनिवार सर्व पितृ अमावस्या

पितृपक्ष के दौरान प्रतिदिन पितरों के लिए तर्पण करना चाहिए। तर्पण के लिए आपको कुश, अक्षत्, जौ और काला तिल का उपयोग करना चाहिए। तर्पण करने के बाद पितरों से प्रार्थना करें और गलतियों के लिए क्षमा मांगें।

पितृपक्ष में पितरों की आत्मा की शांति के लिए जो भी श्राद्ध कर्म करते हैं, उन्हें इस दौरान बाल और दाढ़ी नहीं कटवाना चाहिए। साथ ही इन दिनों में घर पर सात्विक भोजन ही बनाना चाहिए। तामसिक भोजन से पूरी तरह परहेज करना चाहिए। 

कहा जाता है कि पूर्वजों की तीन पीढ़ियों की आत्माएं पितृलोक में निवास करती हैं। पितृलोक स्वर्ग और पृथ्वी के बीच का स्थान माना जाता है। यह क्षेत्र मृत्यु के देवता यम द्वारा शासित है, जो एक मरते हुए व्यक्ति की आत्मा को पृथ्वी से पितृलोक तक ले जाता है। ऐसे में जब आप पितृपक्ष के दौरान श्राद्ध कर्म करते हैं तो पितरों को मुक्ति मिलती है और वे स्वर्ग लोग में चले जाते हैं। 

पितृपक्ष

कहा जाता है कि पूर्वजों की तीन पीढ़ियों की आत्माएं पितृलोक में निवास करती हैं। पितृलोक स्वर्ग और पृथ्वी के बीच का स्थान माना जाता है। यह क्षेत्र मृत्यु के देवता यम द्वारा शासित है, जो एक मरते हुए व्यक्ति की आत्मा को पृथ्वी से पितृलोक तक ले जाता है। ऐसे में जब आप पितृपक्ष के दौरान श्राद्ध कर्म करते हैं तो पितरों को मुक्ति मिलती है और वे स्वर्ग लोग में चले जाते हैं। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments