Thursday, May 30, 2024
HomeELECTIONMP-CG-KARNATAKA ELECTION जीतना आसान नहीं BJP के लिए

MP-CG-KARNATAKA ELECTION जीतना आसान नहीं BJP के लिए

MP-CG-KARNATAKA ELECTION: मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक असेंबली चुनाव में बीजेपी के लिए जीत पाना आसान नहीं है। यहां सरकार बन ही जाएगी, पार्टी इसका दावा बीजेपी भी नहीं कर पा रही। छत्तीसगढ़ में पार्टी के पास कोई CM फेस ही नहीं है। कर्नाटक में एंटी इनकम्बेंसी का तोड़ नहीं मिल रहा। हालिया सर्वे में बीजेपी एमपी में बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पा रही है।

MP-CG-KARNATAKA ELECTION: मध्य प्रदेश में BJP और कांग्रेस दोनों के पास 80-80 सीटों का बेस है। बहुमत 116 सीट पर है। यहां लड़ाई 36 सीटों के लिए है, जो सरकार बनवाएगी। BJP के एक सीनियर लीडर कहते हैं ‘मुख्यमंत्री, प्रदेश संगठन और हाईकमान तक लगातार अपना-अपना सर्वे करवा रहे हैं। लेकिन अभी पार्टी अभी आश्वस्त नहीं है। अंदरखाने में खबर है कि बड़े पैमाने पर विधायकों के टिकट काटे जाएगी।

बता दें कि शिवराज सिंह चौहान 23 मार्च 2020 को चौथी बार राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। 30 नवंबर 2005 से 17 दिसंबर 2018 तक लगातार 13 साल 17 दिन तक वे CM रहे। फिर करीब डेढ़ साल कांग्रेस की सरकार रही और कमलनाथ CM बने। 23 मार्च 2020 से एक बार फिर CM की कुर्सी शिवराज के पास आ गई। उन्हें मुख्यमंत्री रहते हुए करीब 16 साल हो चुके हैं। अब तक प्रदेश में कोई भी इतने समय तक मुख्यमंत्री नहीं रहा है। अबकी बार क्या होगा, अभी सिर्फ कयास ही लग रहे हैं, मगर फिलहाल तो शिवराज सिंह ही सीएम फेस हैं।

साल 2018 में BJP ने 107 सीटें जीती थी। वहीं कांग्रेस पिछली बार से ज्यादा इस बार संगठित दिख रही है। चुनाव में 8 माह ही बचे हैं, इसलिए अब CM भी बदला नहीं जा सकता। पहले भी पार्टी को ऐसा कोई चेहरा नहीं मिला, जो शिवराज की जगह ले सके।

MP-CG-KARNATAKA ELECTION: BJP के लिए छत्तीसगढ़ मुश्किल है। यहां वह सत्ता में नहीं, बल्कि विपक्ष में है। राज्य में वापसी के लिए BJP ने संगठन में बड़े बदलाव किए हैं। तीन बार के विधायक नारायण चंदेल को नेता प्रतिपक्ष और बिलासपुर से सांसद अरुण साव को प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया है। कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई पर भी पार्टी की नजर है, लेकिन BJP अब तक कांग्रेस के खिलाफ कोई मूवमेंट खड़ा नहीं कर पाई।

छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में से अभी कांग्रेस के पास 71 और BJP के पास 14 सीटें हैं। हाल में हुए लोकल बॉडीज इलेक्शन में कांग्रेस जीती है। प्रदेश के सभी 14 नगर निगम पर कांग्रेस का ही कंट्रोल है।

MP-CG-KARNATAKA ELECTION: कर्नाटक में BJP 20 जुलाई 2019 से सत्ता में है। इन 4 साल में उसे एक बार सीएम बदलना पड़ा। 28 जुलाई 2021 से यहां बसवराज बोम्मई CM हैं। कर्नाटक में फरवरी में RSS ने एक सर्वे रिपोर्ट BJP को सौंपी है। इसमें उसे 70 से 75 सीटें जीतते बताया गया। बहुमत के लिए 113 सीटें जरूरी चाहिए।

BJP की हालत ऐसी है कि जिन बीएस येदियुरप्पा को पार्टी ने CM पद से हटाया था, अब उनके भरोसे ही इलेक्शन कैंपेन आगे बढ़ाया जा रहा है। इसकी वजह सर्वे रिपोर्ट हैं, जिनसे पता चला कि मौजूदा CM और पार्टी प्रेसिडेंट नलिन कुमार कटील लोगों का सरकार के प्रति नजरिया बदलने में नाकाम रहे हैं।

वहीं ‘BJP के खिलाफ जबरदस्त एंटी इनकम्बेंसी बनी हुई है। करप्शन यहां बड़ा मुद्दा है। 3 मार्च को BJP विधायक मदल विरुपक्षप्पा के ठिकानों से 8 करोड़ रुपए कैश मिले हैं। उनके बेटे को लोकायुक्त ने 40 लाख रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। इससे पार्टी और ज्यादा मुश्किल में फंस गई है। PM मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की लगातार रैलियां हो रही हैं, लेकिन पार्टी एंटी इनकम्बेंसी का माहौल नहीं बदल पा रही।

वहीं प्रदेश में कांग्रेस का प्रचार अभियान बहुत आक्रामक है। वह करप्शन के मुद्दे पर BJP को घेर रही है।’

बता दें कि फरवरी में नॉर्थ ईस्ट के तीन राज्यों नगालैंड, त्रिपुरा और मेघालय में चुनाव हुए। 2 मार्च को आए नतीजों में त्रिपुरा-नगालैंड में BJP गठबंधन को बहुमत मिला। मेघालय में उसने सबसे बड़ी पार्टी NPP के साथ गठबंधन कर लिया। यानी तीनों राज्यों में पार्टी सरकार में है। इसके बावजूद पार्टी की ग्रोथ रुकी हुई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments