Wednesday, May 22, 2024
HomeCRIMEMaratha Reservation: मराठा आरक्षण की मांग, दो विधायकों के घर जलाए

Maratha Reservation: मराठा आरक्षण की मांग, दो विधायकों के घर जलाए

NCP दफ्तर में आग लगाई, बीड जिले में धारा 144 लागू; दो सांसदों का इस्तीफा

Maratha Reservation: महाराष्ट्र में आरक्षण की मांग को लेकर NCP दफ्तर में आग लगा दी गई। बीड जिले में धारा 144 लागू है। इसके विरोध में दो सांसदों ने इस्तीफा दे दिया।

मराठा आंदोलनकारियों ने बीड में NCP का दफ्तर भी जला दिया है। यह दफ्तर शरद पवार गुट का था।

प्रदर्शनकारियों ने माजलगांव में NCP अजीत पवार गुट के विधायक प्रकाश सोलंके के घर आगजनी की।

मराठा आरक्षण आंदोलन के नेता पर एक विवादित बयान को लेकर प्रदर्शनकारी नाराज थे। सैकड़ों की संख्या में लोगों ने NCP विधायक का घर घेर लिया और पत्थरबाजी भी की। पुलिस के समझाने के बाद प्रदर्शनकारी विधायक के घर और दफ्तर से हटे।

घटना के बाद विधायक के घर बड़ी संख्या में पुलिस की तैनाती की गई है।

उधर मराठा आरक्षण आंदोलन के नेता मनोज जारंगे जालना के अंतरौली में 6 दिन से भूख हड़ताल पर हैं। बीड के माजलगांव में मराठा प्रदर्शनकारियों ने नगर परिषद कार्यालय में आग लगा दी।

महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को बीड में दो विधायकों के घरों में आग लगा दी, वहीं शरद पवार गुट के NCP का दफ्तर भी जला दिया।

प्रदर्शनकारियों ने बीड के माजलगांव में विधायक प्रकाश सोलंके के घर और दफ्तर पर पथवराव किया। सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने यहां दर्जनों बाइक और कार को भी फूंक दिया। वहीं, देर शाम बीड में ही एक और NCP विधायक संदीप क्षीरसागर का घर भी जला दिया गया। प्रशासन ने जिले में धारा 144 लागू कर दी है।

मराठा आरक्षण आंदोलन इस साल अगस्त से ही चल रहा है। आरक्षण की मांग को लेकर 11 दिनों में 13 लोग सुसाइड कर चुके हैं। बसों के नुकसान को देखते हुए 30 डिपो से संचालन बंद कर दिया गया है।

NCP विधायक प्रकाश सोलंके ने घटना को लेकर कहा- जब हमला हुआ तब मैं अपने घर के अंदर ही था। हालांकि मेरे परिवार का कोई भी सदस्य या कर्मचारी घायल नहीं हुआ। हम सभी सुरक्षित हैं, लेकिन आग के कारण संपत्ति को भारी नुकसान हुआ। घटना के बाद इलाके में पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

इधर, मराठा आंदोलन को लीड कर रहे मनोज जरांगे ने मराठा समाज से अपील की है कि कोई भी मराठा आज रात और कल तक कोई भी आगजनी ना करे। मुझे लगता है कि कोई और इस आंदोलन का फायदा लेकर आग लगा रहा है।

वहीं, मराठा आरक्षण आंदोलन के बीच शिवसेना के दो सांसदों ने इस्तीफा दे दिया है। रविवार 29 अक्टूबर को हिंगोली से सांसद हेमंत पाटिल ने इस्तीफा दे दिया था। उनका रिजाइन सोशल मीडिया पर वायरल था। अब उन्होंने लोकसभा सचिवालय को भी इस्तीफा भेज दिया है। नासिक के सांसद हेमंत गोडसे ने भी इस्तीफा मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को भेज दिया है।

प्रदर्शनकारियों ने जालना के बदनापुर तहसीलदार दफ्तर को जबरन ताला लगाया और महिला तहसीलदार को बाहर निकाला। यही नहीं, लैंड रिकॉर्ड्स, नगर पंचायत, पंचायत समिति कार्यालय में भी तालाबंदी कर दी। बीड के माजलगांव में मराठा प्रदर्शनकारियों ने नगर परिषद कार्यालय में आग लगा दी।

प्रकाश सोलंके के नाम से वायरल हो रही एक ऑडियो क्लिप को हमले के लिए जिम्मेदार बताया जा रहा है। इस ऑडियो क्लिप में प्रकाश सोलंके कथित तौर पर मनोज जारांगे पर टिप्पणी करते सुनाई देते हैं। मराठा आरक्षण के लिए मनोज जरांगे ने अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की थी।

उस वक्त महाराष्ट्र सरकार ने जरांगे से मामला सुलझाने के लिए 30 दिन का समय मांगा था। जरांगे ने वादा किया था कि वह अगले 40 दिनों तक विरोध प्रदर्शन नहीं करेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments