Tuesday, June 25, 2024
HomeINDIAUPSC EXAM में 34 फीसदी सीट हासिल कर बेटियों ने रचा इतिहास,...

UPSC EXAM में 34 फीसदी सीट हासिल कर बेटियों ने रचा इतिहास, टॉप 4 में बेटियाँ ही बेटियाँ

UPSC परीक्षा में हिंदी मीडियम से पास हुए 54 उम्मीदवार

UPSC EXAM: UPSC के इतिहास में 34 फीसदी सीट पर महिलाओं ने कब्ज़ा जमाया और इनमें से टॉप 20 में 60 फीसदी स्थान पर बेटियों ने जगह बनाई। और इनमें से अकेले 25 प्रतिशत उत्तर प्रदेश के खाते में गया। अबकी बार ख़ास ये भी रहा कि टॉप 4 में महिलाएं ही महिलाएं हैं। साथ ही हिंदी माध्यम के 54 उम्मीदवार कामयाब हुए हैं। टॉप 20 में 16 उत्तर भारत से हैं।

UPSC EXAM: पहली बार UPSC के इतिहास में 34 फीसदी सीट पर महिलाओं ने कब्ज़ा जमाया है। और ख़ास ये है कि टॉप 4 में महिलाएं ही महिलाएं हैं। इसके साथ ही हिंदी माध्यम के 54 उम्मीदवार कामयाब हुए हैं। टॉप 20 में 16 उत्तर भारत से हैं।

 बेटियों ने फिर कमाल कर दिया। देश की सबसे प्रतिष्ठित UPSC परीक्षा में टॉप-4 स्थानों पर बेटियां रहीं। यह लगातार दूसरा साल है जब बच्चियों ने टॉप-3 स्थानों पर कब्जा जमाया। टॉप-10 में 6 और टॉप-25 में 14 लड़कियों ने जगह बनाई।

 बेटियों ने फिर कमाल कर दिया। देश की सबसे प्रतिष्ठित UPSC परीक्षा में टॉप-4 स्थानों पर बेटियां रहीं। यह लगातार दूसरा साल है जब बच्चियों ने टॉप-3 स्थानों पर कब्जा जमाया। टॉप-10 में 6 और टॉप-25 में 14 लड़कियों ने जगह बनाई।

UPSC EXAM: हिंदी माध्यम के 54 प्रतिभागी सफल हुए। दिल्ली, दिल्ली यूनिवर्सिटी और इंजीनियरिंग बैकग्राउंड वालों का दबदबा रहा। टॉप-20 में डीयू के 6 ग्रेजुएट, एक दिल्ली का IIT ग्रेजुएट और दो दिल्ली टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी के छात्र रहे हैं। मध्य प्रदेश में पहले नंबर पर 15वीं रैंकिंग लाने वाली स्वाति और 26वीं रैंकिंग लाने वाली भोपाल की गुंजिता रहीं। मप्र से 33 अभ्यर्थी सफल हुए।

UPSC EXAM: पहली बार UPSC में 34 फीसदी सीट पर महिलाओं का कब्ज़ा, टॉप 4 में पुरुषों को जगह नहीं

UPSC EXAM: टॉप 10 उम्मीदवारों की लिस्ट

  • इशिता किशोर 
  • गरिमा लोहिया
  • उमा हरति एन
  • स्मृति मिश्रा
  • मयूर हजारिका
  • गहना नव्या जेम्स
  • वसीम अहमद
  • अनिरुद्ध यादव
  • कनिका गोयल
  • राहुल श्रीवास्तव

13 साल में 8वीं बार बेटियां टॉप पर: 13 साल में 8वीं बार बेटियां टॉप पर हैं। 913 सफल उम्मीदवारों में महिलाओं की हिस्सेदारी 320 रही। यानी 34% भागीदारी के साथ यह महिलाओं के लिहाज से सबसे सफल साल है। दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ इकोनॉमिक्स से ग्रेजुएट करने वालीं नोएडा की इशिता किशोर ने टॉप किया।

गर्व के पल: यूपीएससी टॉपर इशिता किशोर का मुंह मीठा कराती उनकी माँ।

टॉप-20 में 16 उत्तर भारत के उम्मीदवार पास हुए। इनमें से 60 फीसदी तीसरे या चौथे प्रयास में सफल हुए। 

हैरानी की बात ये है कि टॉप-20 में 17 सिर्फ ग्रेजुएट हैं। तीन के पास मास्टर डिग्री है। 9 ऐसे हैं जिनके पास B Tech या BE की डिग्री है। दो BSc और एक MBBS है। आर्ट्स स्ट्रीम के सभी पांचों ग्रेजुएट DU के हैं। दो कॉमर्स और एक लॉ ग्रेजुएट है।

UPSC EXAM: टॉप-20 में 5 के पास एंथ्रोपोलॉजी विषय: टॉप-20 में वैकल्पिक विषय के रूप में सबसे ज्यादा 5 उम्मीदवारों के पास एंथ्रोपोलॉजी है। रैंक-1 समेत 3 उम्मीदवारों का विषय पॉलिटिकल साइंस व अंतरराष्ट्रीय संबंध था। दो-दो उम्मीदवार (10-10%) जूलॉजी, सोशियोलॉजी, इकोनॉमिक्स, कॉमर्स, मैथ्स, हिस्ट्री, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, फिलॉसफी व लॉ विषय से हैं।

टॉप-20 में सबसे ज्यादा 5 उत्तर प्रदेश और 3-3 बिहार व दिल्ली से हैं। टॉप-20 के सफल उम्मीदवारों में सबसे ज्यादा 5 यूपी से हैं। दिल्ली और बिहार के तीन-तीन, जम्मू-कश्मीर व हरियाणा के दो-दो, तेलंगाना, असम, केरल, मध्य प्रदेश, राजस्थान से एक-एक हैं।

35% ने तीसरे और 25% ने चौथे प्रयास में सफलता पाई। टॉप-20 में चार उम्मीदवार अपने पहले प्रयास में सफल रहे। 35% ने तीसरे व 25% ने चौथे प्रयास में कामयाबी हासिल की। 20वें पायदान पर आईं इंदौर की अनुष्का शर्मा एक मात्र ऐसी उम्मीदवार हैं जिन्होंने विदेश (न्यूयॉर्क) से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन किया है।

इस बार UPSC की सिविल सेवा परीक्षा के नतीजे काफी खास हैं। इसकी वजह यह है कि 2022 बैच में हिंदी माध्यम से 54 उम्मीदवार सफल हुए हैं। यह UPSC के इतिहास में हिंदी का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। पिछले साल आए 2021 बैच के रिजल्ट में ऐसे 24 उम्मीदवार सफल हुए थे। यानी हिंदी का ग्राफ लगातार सुधर रहा है। इस बार टॉप-100 में 66वीं, 85वीं व 89वीं रैंक पर तीन उम्मीदवारों ने सफलता हासिल की है।

UPSC EXAM: हिन्दी माध्यम की टॉपर 66वीं रैंक हासिल करने वाली कृतिका मिश्रा कानपुर की रहने वाली हैं। दिव्या तंवर ने इस बार 105वीं रैंक हासिल की है। 2021 बैच में भी दिव्या ने 438वीं रैंक हासिल की थी और सबसे कम उम्र (महज 22 साल) की IPS चुनी गई थीं। अब वह IAS हो गई हैं।

इन नतीजों में सबसे खास बात यह है कि 54 उम्मीदवारों में से 29 ने वैकल्पिक विषय के रूप में हिंदी साहित्य लेकर यह कामयाबी हासिल की है। पांच-पांच उम्मीदवार ऐसे भी सफल हुए, जिन्होंने इतिहास, भूगोल व राजनीति विज्ञान विषय लिया था। दो छात्रों ने गणित विषय लेकर हिंदी माध्यम से सफलता हासिल की, जिनमें से एक ने 120वीं रैंक हासिल की है। इन बच्चों ने हमारे साथ दिनभर लाइब्रेरी में पढ़ाई की।

UPSC EXAM: UPSC के इतिहास में 34 फीसदी सीट पर महिलाओं ने कब्ज़ा जमाया और इनमें से टॉप 20 में 60 फीसदी स्थान पर बेटियों ने जगह बनाई। और इनमें से अकेले 25 प्रतिशत उत्तर प्रदेश के खाते में गया। अबकी बार ख़ास ये भी रहा कि टॉप 4 में महिलाएं ही महिलाएं हैं। साथ ही हिंदी माध्यम के 54 उम्मीदवार कामयाब हुए हैं। टॉप 20 में 16 उत्तर भारत से हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments